नहीं दिखा बंद का असर, स्वाभाविक रहा कोलकाता

  • अन्य दिनों की तरह सड़कों पर चलती रही बसें, स्कूल, कॉलेज व दफ्तर रहा सावाभाविक
  • बंद के समर्थन में कई जगहों पर बाम कर्मियों व नेताओं ने निकाली रैली, लेकिन नहीं दिखा समर्थन

कोलकाता. पंचायत चुनाव के पहले राज्यभर में फैली हिंसा मारपीट व अराजकता के विरोध में माकपा द्वारा बुलाये गये शुक्रवार को छह घंटे के बंद का सुबह से कोई असर नहीं दिखा. आम दिनों की तरह सड़कों पर बसें, दफ्तरों में कामकाज व स्कूलों में पढ़ाई स्वाभाविक दिखी. इस दिन जबरन बंद कराने वाले लोगों पर कार्रवाई के लिए लालबाजार पुलिस मुख्यालय की तरफ से भारी संख्या में पुलिस की तैनाती की गयी थी. दफ्तर, बाजार, मार्केट प्लेस व बस डीपो में किसी भी गड़बड़ी को रोकने के लिए भारी संख्या में पुलिस की तैनात थी. पहले ही राज्य सरकार की तरफ से सरकारी कर्मचारियों को दफ्तरों में मौजूद रहने की हिदायत दे दी गयी थी. इसके कारण सरकारी दफ्तरों में भी बंद का दिनभर में कोई असर नहीं दिखा. सामान्य दिनों की तरह कर्मचारी मौजूद थे. किसी भी जगह कोई बड़ी घटना घटने की भी खबर नहीं है. इधर माकपा नेताओं व कर्मियों ने शुक्रवार को महानगर के कुछ जगहों में बंद के समर्थन में रैली निकालकर बंद को सफल करने का आवेदन करते दिखे. इधर शुक्रवार को आम दिनों की तरह ही सड़कों पर वाहनों की संख्या भी सामान्य थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!