चुनाव आयोग का चाबुक सिद्धू पर भी चल सकता है

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव के लिए सारी राजनीतिक दल चुनाव प्रचार में जूटे हैं। चुनावी रैली में नेताओं के विवादित बयान देने का सिलसिला जारी है। आये दिन नेता विवादित बयान दें रहे हैं। इस कड़ी में अब कांग्रेस के नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिद्धू का नाम भी जूड़ गया है। वजोत सिंह सिद्धू ने बिहार के कटिहार में एक विवादित बयान दिया है। सिद्धू ने जनसभा में मुस्लिम समुदाय से एकजुट होकर कांग्रेस के पक्ष में मतदान करने की अपील की है। बता दें कि पिछले दिनों यूपी में बीएसपी चीफ मायावती ने मुस्लिमों को एक साथ गठबंधन को वोट करने की अपील की थी।

सिद्धू के इस बयान पर  चुनाव आयोग ने सिद्धू के विवादित बयान पर स्वत: संज्ञान लिया है। सिद्धू ने कटिहार में रैली के दौरान सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को हराने के लिए एक समुदाय से बड़ी तादाद में निकलकर कांग्रेस के पक्ष में वोट करने की अपील कर विवादों में आ गए हैं।सिद्धू के इस विवादित बयान को लेकर कटिहार जिला प्रशासन ने रिपोर्ट मांगी है। अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी संजय कुमार सिंह ने कहा कि रिपोर्ट मिलने के बाद सिद्धू के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।

इसके पहले योगी ने अपने बयान में कहा था, ‘अगर कांग्रेस, एसपी, बीएसपी को अली पर विश्वास है तो हमें भी बजरंग बली पर विश्वास है।’ उधर, मायावती ने 7 अप्रैल को अपने बयान में कहा था, ‘कांग्रेस मानकर चल रही है हम जीतें या न जीतें लेकिन गठबंधन नहीं जीतना चाहिए, इसलिए कांग्रेस ने ऐसी जाति और ऐसे धर्मों के लोगों को खड़ा किया है जिससे बीजेपी को फायदा पहुंचे। मैं मुस्लिम समाज के लोगों को कहना चाहती हूं कि आपको वोट बांटना नहीं है बल्कि एकतरफा वोट देकर गठबंधन को कामयाब बनाना है।

बता दें कि कटिहार लोकसभा सीट पिछले 22 वर्षो में दो दिग्गज नेताओं तारिक अनवर और निखिल चौधरी के बीच मुकाबले की गवाह रही है जहां 2014 के चुनाव में मोदी लहर के बावजूद भाजपा नाकाम रही थी। पिछली बार राकांपा के टिकट पर जीत दर्ज करने वाले तारिक अनवर इस बार कांग्रेस के उम्मीदवार हैं और उनके सामने भाजपा के निखिल चौधरी की बजाय इस बार जदयू के दुलालचंद गोस्वामी हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में कटिहार सीट से राकांपा के तारिक अनवर पांचवीं बार जीत दर्ज करने में कामयाब रहे थे और भाजपा के टिकट पर लगातार तीन बार सांसद चुने गए निखिल कुमार चौधरी चुनाव हार गए थे। राजग घटक दलों में सीटों के बंटवारे के तहत इस बार कटिहार सीट जदयू के खाते में गई है जो भाजपा की मजबूत सीट रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!